कर्पूरगौरं करूणावतारं श्लोक अर्थ | Karpur Gauram Karunavtaram

कर्पूरगौरं करूणावतारम: – Karpur Gauram Karunavtaram

सनातन हिंदू धर्म मे पूजा के दौरान मंत्र उच्चारण करना शुभ माना जाता है, वैसे तो हर देवी देवता के लिये अलग-अलग मंत्र है, लेकिन पूजा आरती खत्म करने के दौरान कर्पूर गौरम करूणावतारम श्लोक का उच्चारण करना शुभ माना जाता है। इस मंत्र से हम भगवान शिव जी का स्तुति करते है।

Karpur Gauram Karunavtaram

कर्पूरगौरं करूणावतारं पूर्ण मंत्र

कर्पूरगौरं करुणावतारं संसारसारम् भुजगेन्द्रहारम् ।
सदावसन्तं हृदयारविन्दे भवं भवानीसहितं नमामि ।।

ॐ नम: शिवाय

कर्पूरगौरं मंत्र व्याख्या: जो करपूर्ण गौर वर्ण वाले है, जो करुणा के अवतार है, इस समस्त संसार के पालनहार है, जो सर्प को हार के समान गले मे धारण करते है, वे भगवान शिव व माता पार्वती के साथ सदा हमारे हृदय मे निवास करे। ऐसे भोले भण्डारी को हम सत्-सत् नमन करते है। ॐ नम: शिवाय का अर्थ जाने

**जरुर पढे**

  1. महामृत्युंजय मंत्र का अर्थ
  2. गायत्री मंत्र का अर्थ
  3. धर्मो रक्षति रक्षित: का अर्थ
  4. संस्कृति श्लोक पढे

Karpur Gauram Karunavtaram in English

Karpur gauram Karunavataram,
Sansara Saram Bhujagendra Haram
Sada Basantam Haridayarabinde
Bhavam Bhavani Sahitam Navami

Credit: Boldsky YouTube Channel

Karpur gauram Karunavataram,
Sansara Saram Bhujagendra Haram
Sada Basantam Haridayarabinde
Bhavam Bhavani Sahitam Navami

इस लेख मे हमने कर्पूरगौरं करूणावतारं (Karpur Gauram Karunavtaram) मंत्र के विषय मे जाना, यह लेख आप के लिये कितना लाभप्रद रहा, कमेंट मे जरुर बताये साथ ही हमारे साथ जुडने के लिये क्लिक करे Join Now

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *