मकर संक्रांति (खिचड़ी) क्यो मनाया जाता है – Makar Sankranti 2022

मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामना-Happy Makar Sankranti

Makar Sankranti 2022
Makar Sankranti 2022

Makar Sankranti Date 2022: इस वर्ष मकर संक्रांति का त्योहार 14 जनवरी 2022 दिन शुक्रवार (Friday) को मनाया जायेगा। मकर संक्रांति को उत्तर भारत मे खिचड़ी के नाम से भी जाना जाता है, यह हिंदुयो का प्रमुख त्योहार है, इस त्योहार को हर वर्ष 14 या 15 जनवरी को मनाया जाता है, माना जाता है कि इसी दिन सुर्य, मकर राशि मे प्रवेश करता है। इसी कारण त्योहार को हम मकर संक्रांति के नाम से जानते है। मकर संक्रांति का त्योहार भारत के अलग-अलग राज्यो मे अलग-अलग नामो से जाना जाता है। मकर संक्रांति के अन्य नाम जैसे-खिचड़ी, पोंगल, पौष संक्रांति, माघी, इत्यादि

मकर संक्रांति कब मनाया जाता है: मकर संक्रांति हर वर्ष जनवरी महिने के 14 या 15 दिनांक को मनाया जाता है, यह त्योहार कई अन्य नामो से भी जाना जाता है, इस दिन गंगा स्नान करके, भगवान शिव जी का पूजा करना शुभ माना जाता है, इस साल खिचडी 14 जनवरी को है।

मकर संक्रांति का महत्व: मकर संक्रांति हिंदुयो के प्रमुख त्योहारो मे से एक है, इस दिन गंगा स्नान, गंगा पूजा, शिव पूजा, दान, का विशेष महत्व है, मकर संक्रांति का त्योहार आध्यात्मिक कारणो के साथ-साथ इस दिन बनने वाले पकवानो से भी प्रसिध्द है, मकर संक्रांति के दिन बनने वाले पकवान जैसे- लड्डू, तिल, मोमफली की पट्टी, लेडुआ (गुण व सेव का मिश्रण), लाई व आटे की ढुढी, हलवा , इत्यादि ।

मकर संक्रांति क्यो मनाया जाता है: मकर संक्रांति त्योहार मनाने का आध्यात्मिक उद्देश्य है, जैसा की हम सब जानते है, हमारे हिंदू धर्म के ग्रंथो वेद पुराण मे सूर्य को भगवान का रुप माना है, इसी दिन भगवान सूर्य “धनु राशि” छोडकर “मकर राशि” मे प्रवेश करते है, यह प्रक्रिया हर वर्ष 14 या 15 जनवरी को होता है, इसलिये इस दिन को मकर संक्रांति त्योहार के रुप मे मनाया जाता है।

मकर संक्रांति का त्योहार कैसे मनाये: मकर संक्रांति त्योहार के दिन की शुरुआत गंगा मे डुबकी लगाने से शुरु होती है, इस दिन बच्चे, बुढे, औरते, सभी शुभ मुहुर्त के अनुसार गंगा मईया मे स्नान करते है, और गंगा मईया की पूजा करते है, इस दिन दान का विशेष महत्व है, दान की मुख्य सामग्री जैसे- चावल, काला तिल, घर पे बने पकवान, इत्यादि दान दिये जाते है। और जिन बेटियो की शादि हो चुकी होती है, उनके घर लाइ, चुरा, इत्यादि पकवान भेजे जाते है।

खिचडी का त्योहार बच्चो के लिये विशेष महत्व रखता है, क्युकी इस दिन बच्चो को कई तरह के पकवान, खाने का मौका मिलता है, इस दिन बच्चे पतंग उडाकर त्योहार को मनाते है।

1. जल संरक्षण पर निबंध2. दहेज प्रथा पर निबंध
3. निबंध कैसे लिखे 4. प्रकृति पर निबंध
जरुर पढे

मकर संक्रांति पर निबंध -Essay on Makar Sankranti

Essay on Makar Sankranti
खिचड़ी पर निबंध

Makar Sankranti in Hindi खिचड़ी पर निबंध
मकर संक्रांति हिंदुयो का त्योहार है, इसे खिचडी, पोंगल, माघ, इत्यादि नामो से भी जाना जाता है, मकर संक्रांति का त्योहार, गंगा स्नान, गंगा पूजा, शिव जी पूजा, व मीठे पकवानो से मनाया जाता है, इस दिन बच्चे पतंग उडाकर खिचडी का त्योहार मनाते है।

मकर संक्रांति त्योहार मनाने का मुख्य कारण ये है कि इस दिन सूर्य, धनु राशि के कक्षा को छोडकर मकर राशि के कक्षा मे प्रवेश करते है, इसलिये इसे मकर संक्राति कहाँ जाता है।

मकर संक्रांति के पकवान:
मकर संक्रांति के दिन पकवान का विशेष महत्व है, इस दिन सभी के घर कई प्रकार के पकवान बनाये जाते है, जैसे- लड्डू, मुंगफली की पट्टी, लेडुआ, इत्यादि, और सभी पकवानो को जिन बेटियो की शादी हो चुकी है, उनके घर भेजे जाते है। Makar Sankranti

लोगो ने पूछा- FAQ

प्रश्न- मकर संक्रांति कब है?
मकर संक्रांन्ति 14 जनवरी 2022 को है।

प्रश्न- 2022 मे मकर संक्रांति कब है?
उत्तर- 14 जनवरी

प्रश्न- मकर संक्रांति क्यू मनाई जाती है?
मकर संक्रांति मनाने का मूल कारण यह है की इस दिन सूर्य धनु राशि के कक्षा को छोडकर मकर राशि के कक्षा मे प्रवेश करता है, यह प्रक्रिया हर वर्ष 14 या 15 जनवरी को होता है।

प्रश्न- मकर संक्रांति के अन्य नाम?
मकर संक्रांति के अन्य नाम जैसे- खिचडी, पोंगल, माघ, इत्यादि

प्रश्न- मकर संक्राति के दिन क्या करे?
मकर संक्राति के दिन, गंगा स्नान, शिव की पूजा, व दान करना पूर्ण माना जाता है।

प्रश्न- मकर संक्रांति के दिन कौन-कौन से पकवान बनाये जाते है?
उत्तर- लड्डू, मुंगफली की पट्टी, तिल की पट्टी, आटे व लाई की लेड्डू, लेणुआ, इत्यादि

प्रश्न- खिचडी कब है 2022 ?
14 जनवरी 2022 को

इस लेख मे हमने मकर संक्राति (Makar Sankranti) के विषय मे विस्तार से जाना, यह लेख आप को कैसा लगा, कमेंट मे जरुर बताये साथ ही हमारे साथ जुडे- क्लिक करे

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *