गुरु नानक जी की जीवनी । guru nanak dev ji in hindi

guru nanak dev ji in hindi जीवन परिचय और सिध्दांत

सिख धर्म के 10 गुरुयो मे पहले गुरु नानक जी का नाम आता है, गुरु नानक जी के कई सिध्दांत थे उनमे से ईश्वर एक है का सिध्दांत गुरु नानक जी ने दिया। इनका जन्म तलवंडी नामक स्थान पर 15 अप्रैल 1469 ई० मे हुआ, गुरु नानक जी के माता का नाम तृप्ता देवी व पिता जी का नाम कल्याणचंद्र जिनका उपनाम मेहता कालू जी था जो की एक किसान थे,

guru nanak dev ji in hindi

पहले के समाज मे बाल विवाह की प्रथा थी इसलिये गुरु नानक जी का विवाह 16 वर्ष के आयु मे कर दी गई, इनके पत्नी का नाम सुलक्खनी देवी व दो पुत्र हुये जिनका नाम श्री चंद्र व लक्ष्मी चंद्र था। ( guru nanak dev ji in hindi ) जीवन परिचय । Read- ध्यान क्रिया कैसे करे

Guru Nanak Dev ji Birthday- 15 April 1469

Biography of Guru Nanak Dev ji in Hindi (जीवन परिचय )

गुरु नानक जी का जन्म15 अप्रैल 1469
(कार्तिक मास – पूर्णिमा)
गुरु नानक जी का मृत्यु22 सितम्बर 1539
(करतापुर मे)
गुरु नानक जी के पिता का नामकल्याण चंद्र
(मेहता कालू)
गुरु नानक जी के माता का नामतृप्ता देवी
गुरु नानक जी के पत्नी का नामसुलक्खनी देवी
गुरु नानक जी के पुत्र का नाम1. श्री चंद्र
2. लक्ष्मी चंद्र
धार्मिक मान्यतासिख पंथ की स्थापना
गुरु नानक जी का जन्म स्थानतलवंडी
गुरु नानक जी का उपनाम1. नानक
2. नानक देव जी,
3. बाबा नानक
4. नानकशाह
Guru Nanak dev ji

Shri Guru Nanak ji Marriage (विवाह )

गुरु नानक जी का जन्म 1469 ई० मे हुआ था, उस समय समाज मे बाल विवाह की प्रथा था, बाल विवाह प्रथा मे कम उम्र के बच्चो का विवाह होता है, उस समय विवाह हेतु कोई निश्चित उम्र का प्रावधान नही था इसलिए कम उम्र के बालक या बलिका का विवाह करवा दिया जाता था, जिससे दोनो अपनी जिम्मेदारीया समझ सके , मन को शांत कैसे करे

गुरु नानक शाहब कि शादी 16 वर्ष के आयु मे सुलक्खनी नामक युवती से हुआ, जिससे उन्हे दो पुत्र प्राप्त हुये , जिनका नाम श्री चंद्र और लक्ष्मी च्नद्र था। गुरु नानक साहब के पहले पुत्र श्री चंद्र ने ही अखाडे की स्थापना की।

Guru Nanak dev ji History

श्री गुरु नानक जी को कई नामो से जाना जाता है जैसे- नानक, नानकशाह, नानक देव जी, बाबा नानक , गुरु नानक का जन्म स्थान तलवंडी का नाम बदल कर गुरु नानक शाहब के नाम पर ननकाना साहब कहा जाता है जो की पाकिस्तान मे है ।

गुरु नानक जी बचपन से ही समाज कल्याण के विषय मे सोचते रहे है जिससे वो बहुत उदास रहते थे, उदासी की वजह से वह अपनी पढाई पूरी नही कर सके और समाज सेवा हेतु अपने जीवन को न्योछावर कर दिया है, गुरु नानक जी के मुख्य गुण- योगी, दार्शनिक, गृहस्थ, समाज सुधारक, कवि, धर्मसुधारक, देश भक्त, विश्व बंधु, ये ऐसे गुण है जो समान्य मनुष्य मे नही पाये जाये, अगर आप इन गुणो को अपने जीवन मे उतारते है, आप का जीवन अनंत जीवन होगा ।

सिख धर्म के सभी गुरुयो का नाम

गुरु नानक सिख धर्म के पहले गुरु थे ,

  1. गुरु नानक जी
  2. गुरु अंगद देव
  3. गुरुअमर दास
  4. गुरु राम दास
  5. गुरु अर्जुन देव
  6. गुरु हर गोविंद
  7. गुरु हर राय
  8. गुरु हर किशन
  9. गुरु तेज बहादुर
  10. गुरु गोविंद सिंह

गुरु नानक जी के सिध्दांत – ईश्वर एक है, एक ईश्वर की पूजा करो, जगत का उध्दारकर्ता हर मनुष्य के भीतर है।, भगवान की पूजा करने वालो को किसी का डर नही,, स्त्री व पुरुष बराबर है


FAQPeople Also Ask (लोगो ने पुछा)

प्रश्न- गुरु नानक का जन्म कब हुआ था?
उत्तर- 15 अप्रैल 1469

प्रश्न- गुरु नानक जी की पत्नी का क्या नाम था ?
उत्तर- सुलक्खनी देवी

प्रश्न- गुरु नानक जी का जन्म कहाँ हुआ था ?
उत्तर- तलवंडी नामक स्थान पर

प्र्श्न- गुरु नानक जी के माता का क्या नाम था?
उत्तर, तृप्ती देवी

प्रश्न- गुरु नानक सिक्ख धर्म के कौन से गुरु थे ?
उत्तर- पहले गुरु

प्रश्न- गुरु नानक का विचार?
उत्तर- ईश्वर एक है।

प्रश्न- गुरु नानक जी की मृत्यु कब हुई थी ?
उत्तर- 22 सितम्बर 1539

2 thoughts on “गुरु नानक जी की जीवनी । guru nanak dev ji in hindi”

  1. Pingback: तुलसीदास का जीवन परिचय । Tulasidas ka Jivan Parichay - अनंत जीवन.in

  2. Pingback: कबीरदास की जीवनी [दोहा]- kabirdas ka jivan parichay in Hindi - अनंत जीवन.in

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *