विज्ञान से जुड़ी यह बातें आपको पता होनी चाहियें | विज्ञान के रोचक तथ्य – Facts about Science in Hindi

Facts about Science: विज्ञान ने दुनिया को चमत्कारों से भर दिया है। हर जगह आपको विज्ञान से जुडी वस्तुये ही मिलेंगी, इसने शहरी लोगो के साथ-साथ गावों के लोगो पर भी अच्छा व बुरा दोनो प्रभाव डाले है। विज्ञान के द्वारा बनाये जाने वाले उकरण मानव जीवन को सरल व सभ्य बनाते है।

अगर आप साइंस में रुचि रखते है तो यह लेख आपके लिये है। आज हम इस लेख में साइंस से जुडे कुछ ऐसे तथ्य (Amazing Facts in Hindi about Science) बताने जा रहे हैं| जिसे आप को जानना बहुत जरूरी है| हम आपको हमारे ब्रह्मांड से जुड़ी कुछ ऐसी बातें (Facts about Universe in Hindi) बताएंगे जो शायद ही आपको पता होगी।

FACT No.1 – LIGHTYEAR (प्रकाश वर्ष)

Facts about Science in Hindi

दोस्तों हममें से ज्यादातर लोग छोटी दूरी मापने के लिए किलो मीटर(km),सेंटीमीटर(cm) का उपयोग करते हैं लेकिन क्या हो अगर किसी चीज की दूरी इतनी ज्यादा होगी नंबर से कम पड़ जाए तो आप क्या करोगे?

इसी समस्या से निपटने के लिए वैज्ञानिक astronomical scale(खगोलीय पैमाना) Lightyear (प्रकाश वर्ष) का इस्तमाल करते हैं। ऐसा इस लिए क्योंकि हमारे ब्रह्मांड मौजूद कुछ ऐसे तारे और प्लानेट है जो एक दूसरे से इतनी ज्यादा दूर है कि इनकी दूरी किलोमीटर मे मापना संभव नहीं है और इसी वजह से वैज्ञानिक प्रकाश वर्ष का इस्तमाल करते हैं।

उदाहरण के तौर पर हमारे पृथ्वी से सबसे नजदीकी तारा प्रॉक्सिमा सैंडोरी 2400000000000 मील दूर है। अब आप सोच सकते हो कि हमारे पृथ्वी से सबसे नजदीकी तारा इतना दूर है और यह संख्या इतनी ज्यादा बड़ी होती है कि इन पर काम करना मुश्किल हो जाता है इसीलिए वैज्ञानिक Lightyear यानी कि प्रकाश वर्ष का इस्तेमाल करते हैं। अगर हम 2400000000000 मील दूरी को प्रकाश वर्ष मैं बदले तो 4.25 प्रकाश वर्ष की लिखा जाएगा।

1 lightyear (प्रकाश वर्ष) कितने किलोमीटर तक होता है।

प्रकाश की स्पीड 3×10⁸ m/s होती है यानी कि लाइट 1 सेकंड में 300000 किलोमीटर दूरी तय कर सकती है। अब जरा सोचिए प्रकाश 1 सेकंड में 300000 किलोमीटर दूरी तय कर सकती है तो सोचिए 1 साल में कितना करेंगे जितना दूरी प्रकाश 1 शाल में तय करेगी उसी दूरी को 1 light year यानी की 1 प्रकाश वर्ष कहते हैं। यानी की 1 light year 9460800000000km होता है।

पढे- सतत विकाश क्या है ?

प्रकाश की speed इतनी ज्यादा होती है कि अगर हम प्रकाश की स्पीड से पृथ्वी का चक्कर लगाते हैं तो 1 सेकंड में हम पृथ्वी का 7.5 बार चक्कर लगा सकते हैं आप सोच सकते है की प्रकाश की स्पीड कितनी ज्यादा होती है।

FACT No.2- Wormhole (वर्महोल)

Facts about Science in Hindi

अगर आप साइंस फिक्शन मूवीस देखते होगे तो आप ने Wormhole(वर्महोल) का नाम तो सुना ही होगा इस थ्योरी को albert Einstein (अल्बर्टआइंस्टाइन) 1935 में दिया था। इस theory के अनुसार हमारे ब्रह्मांड में wormhole मौजूद है और इन वर्महोल्स के जरिए हम 1 एक यूनिवर्स से दूसरे यूनिवर्स में बहुत ही कम समय में जा सकते हैं।

हमारी गैलेक्सी का नाम milkyway (मिल्कीवे) है। उसमें करोड़ों,अरबों तारे और असंख्य ग्रह है और इसी तरह हमारे ब्रह्मांड में असंख्य galaxy (गैलैक्सीस) है जिनकी दूरी हमारी ग्लैक्सी से अरबो प्रकाश वर्ष दूर है जहा तक पहुंचने के लिए इंसानों को लाखों वर्ष लग जाएंगे।

Wormhole काम कैसे करता है

जैसे मान लीजिए एक पहाड़ है अगर आपको पहाड़ के उस पार जाना है तो उस पहाड़ को पार करने के लिए आपको कई घंटे लग जाएंगे पर अगर उसी पहाड़ में एक सुरंग हो तो आप कुछ ही मिनटों में पहाड़ के उस पार पहुंच जाएंगे। इस theory के अनुसार ऐसे ही wormhole हमारे ब्रह्मांड में होते हैं जिनसे हम करोडो लाइट दूर किसी दूसरे यूनिवर्स में बहुत ही कम समय में जा सकते हैं।

ट्रोपिक आफ कैंसर क्या है ?

हम यह भी कह सकते हो कि wormhole एक छोटा सा रास्ता है जो दो जगहो को जोड़ता है। यहा दो जगहो का मतलब किसी नजदीक के जगह नहीं, बल्कि उन दो जगहो मे लाखो प्रकाश वर्ष दूरी हो। यदि हम wormhole को पाने मे सफल होते हे तो हम अरबों – खरबो की दूरी कुछ ही सेकेंडो मे पूरा कर सकते है और मानव सभ्यता को कहीं और बसा सकते हैं।

FACT No.3 – BLACK HOLE (ब्लैकहोल)

Facts about Science in Hindi

आप में से बहुत कम ही लोग ऐसे होंगे जिन्होंने BLACK HOLE (कृष्ण विवर) का नाम सुना नहीं होगा। BLACK HOLE ब्राह्मण में होते हैं। इसकी भविष्यवाणी सबसे पहले अल्बर्ट आइंस्टाइन ने की थी। उन्होंने 1916 में पहली बार gravitational force यानी कि गुरुत्वाकर्षण बल के अपने नए सिद्धांत के आधार पर BLACK HOLE भविष्यवाणी की थी।

BLACK HOLE की इंटीग्रिटी इतनी ज्यादा होती है कि अगर इनकी रेंज में कुछ भी आ जाए तो उसको अपने अंदर संभाल लेती है सूरज भी अगर इनके रेंज में आ जाता है तो उसे भी अपने अंदर संभालने की यहां तक की light (प्रकाश) भी इसके रेंज में आ जाए तो इसे भी अपनी तरफ मोड़ लेगी।

सवाल आता है कि BLACK HOLE (कृष्ण विवर) बनते कैसे हैं?

जब कोई विचारधारा अपने अंत की ओर होता है तो वे अपने ही भीतर सिकुड़ने लगता है जिन्हें वह भारी-भरकम BLACK HOLE बन जाता है और फिर इसकी gravitational force यानी कि गुरुत्वाकर्षण बल इतनी जादा हो जाती है कि इसकी रेंज में आने वाला हर वस्तु इसके अंदर खींचकर चले जाते हैं। और इसी तरह BLACK HOLE (कृष्ण विवर) का निर्माण हो जाता है।

अजंता की गुफायों का रहस्य

इस लेख मे हमने विज्ञान से जुडे तथ्य (science facts hindi) को जाना, यह लेख आपके लिये कितना शिक्षाप्रद रहा कमेंट मे जरुर बताये, अगर आपके पास भी विज्ञान से जुडे रोचक तथ्य है तो,हमारे साथ सांझा करना ना भूले। Join Us