दोस्त पर निबंध । मेरे प्यारे मित्र पर निबंध । essay on friend in hindi । my best friend essay

मेरे प्यारे मित्र पर निबंध । essay on friend in hindi

दोस्ती एक दुसरे के विचारो के मिलने से होती है एक से अधिक मनुष्यो का मेल जो रिश्ता सबसे अलग व अद्भुत हो उसे दोस्ती कहते है हम सभी के जीवन मे दोस्त होते हैं यह मायने नहीं रखता है कि आपकी उम्र क्या है दोस्त हमारे जीवन में होना अति आवश्यक है क्योंकि मां के बाद हम सबसे ज्यादा समय एक दोस्त को ही देते हैं । [my best friend paragraph]

दोस्त पर निबंध । मेरे प्यारे मित्र पर निबंध । essay on friend in hindi । my best friend essay
Symbol of true Friend

जब आप अपना समय मां के साथ गुजरते हैं तो आपको संस्कार, व्यवहार एवं घर के कार्यों के बारे में अच्छी तरह से परिचित हो जाते है। लेकिन अगर आप एक दोस्त के साथ समय बिताते हैं एक अच्छे दोस्त के साथ रहते हैं तो आप बाहरी दुनिया से परिचित होते है एक अच्छा Dost हर परिस्थित मे आप का साथ देगा और एक अच्छा दोस्त आपके पूरे जीवन को बदल सकता है ।

दोस्त परिवार के रिश्तो जैसे भाई-बहन, माता-पिता से ऊपर होता है आपको अच्छी तरह से जानने वाला सिर्फ आपका दोस्त होता है इसका अर्थ यह नहीं कि परिवारिक रिश्ते का महत्व नही ! [essay on friend]

एक अच्छा दोस्त आपका परिवार भी हो सकता है जैसे-आपके भाई, बहन मात, पिता इत्यादि, जरूरी नहीं कि आपके क्लास का या आपकी उम्र का ही कोई आप का दोस्त तो हो सकता है ,बल्कि सभी एक अच्छे दोस्त हो सकते हैं । फिजिकली देखा जाए तो आपके फैमिली में हर कोई दोस्त है लेकिन एक निश्चित उम्र में जब आप होते है तो ज्यादातर लोग आप दोस्त हो जाते है दोस्त बनाना सामान्य है लेकिन एक अच्छा एवं सच्चा दोस्त बनाना बहुत मुश्किल है

दोस्त आप को हर क्षेत्र मे मदद कर सकता है चाहे वो शिक्षा का क्षेत्र हो या परिवार या रिश्तेनाते का, अगर आप के पास एक सच्चा दोस्त है तो आप सफलता को आसानी से प्राप्त कर सकते है, दोस्त रखने से आत्मविश्वास व मनोबल मे वृध्दी होती है ,

जीवन एक संघर्ष है इस बात से तो आप परिचित है ऐसे मे सच्चा दोस्त आप के जीवन के संघर्ष को आसान बना सकता है

सच्चे दोस्त की जरुरत (Importance of best Friends )

[my best friend essay in hind] दोस्त का जीवन मे होना बहुत जरुरी है, जिस प्रकार एक सम्पूर्ण जीवन के लिये संस्कार, व्योहार, नैतिकता की आवश्यकता होती है, उसी प्रकार सम्पूर्ण जीवन के लिये प्रिय मित्र ( best Friend ) की आवश्यकता होती है।

प्रिय मित्र (priya mitra) जीवन के हर मोड् पर काम आता है चाहे वो दुख का समय हो या सुख का, जो हर परिस्थिति मे आप का साथ दे उसे प्रिय मित्र कहते है।

हिंदु धर्म मे सच्चे दोस्त के कई वर्णन मिल जायेंगे, जहाँ पे सबसे प्रिय मित्रता कृष्ण व सुदामा के मित्रता को दर्शाया गया है। दोस्ती उम्र, लिंग, जाति, धर्म, रंग, को देख के नही की जाती, बल्की दोस्ती तो विचारो के मिलने से होती है।

एक सच्चा दोस्त आप के जीवन के लिये किस प्रकार सहयोगी हो सकता है-

  1. शिक्षा के क्षेत्र मे
  2. सफलता प्राप्त कराने मे
  3. समाजिक तौर पर
  4. घरेलू कार्य मे
  5. खुशी मे चार चांद लगाने के लिये
  6. दुख मे साथ के लिये

सच्चे दोस्त की पहचान (True Friend Definition )

सच्चा दोस्त आज के समय मे मिलना मुश्किल हो गया है , सच्चे दोस्त का पाना भी सौभग्य की बात है पहले के लोग कहाँ करते थे की –

जैसी संगत ,वैसी रंगत

जैसी संगत वैसी रंगत का अर्थ – यह है की आप के पास जैसे दोस्त होंगे आप वैसे ही बन जायेंगे, अगर आप के पास अच्छे , सच्चे , संस्कारी, व्योहारिक व शिक्षित दोस्त है तो आप भी उन्ही के जैसा बनना चाहेंगे, अगर दुर्भाग्य वश आप के पास , शराबी, गलत मानसिकता वाले दोस्त है तो आप को भी वो अपने जैसा बना लेंगे,

इसलिये दोस्ती बहुत सोच व समझ के करनी चाहिये , क्योकी दोस्ती अच्छा व बुरा दोनो प्रकार से प्रभाव डालती है और जब तक आप के जीवन पर इसका असर दिखे, तब तक बहुत देर हो चुकी रहती है , इस बात याद रखे- दुश्मन से ज्यादा खतराक है दोस्त हो सकते है

बुरी संगत से अच्छा, अकेला रहना बेहतर है

suraj

किसे दोस्त बनाये ?

आज के समय मे दोस्त का चुनाव करना आसान नही, बाहरी परिवर्तन व रहन सहन से सभी लोग सही लगते है,ऐसे मे किसी के अंदर क्या चल रहा कोई नही जान पाता है , दोस्त बनाते समय ध्यान रखन जरुरी है की जिसे आप दोस्त बना रहे वो आप के विचारो के जैसा हो, आप दोनो के विचार मिलते जुलते हो , जिससे आप के दोस्ती मे कोई दिवार न उत्पन्न हो।

दोस्ती का मूल उद्देश्य, पैसा, घुमना, या बलवान बनना जैसे विचारो से ना हो , बल्की दोस्ती हर परिस्थिति मे मदद कर सके , और एक दुसरे के लिये हमेशा आप तत्पर हो , ऐसी दोस्ती बनाइये ।

इसे भी पढे

शिक्षा कैसे प्राप्त करे

मन को शांत करे

conclusion

दोस्ती ही जीवन है, इस आर्टिकल मे हमने दोस्त पर अपने विचार प्रकट किये है , जहाँ परिवार व रिश्तो का सम्बंध खत्म होता है वहाँ से दोस्ती की शुरुआत होती है , इस छोटे से आर्टिकल मे आप इन सभी प्रश्नो के जवाब प्राप्त कर सकते है ।

जैसे- [dost par nibandh, priya mitra par nibandh, my best friend par nibandh, mitra par nibandh, best friend par nibandh, dosti par nibandh, my friend par nibandh, friendship par nibandh, best friend essay, my best friend par essay ] इन सभी प्रश्नो का जवाब आप इस आर्टिकल मे प्राप्त कर चुके है , अगर आप को कही त्रुटि मिले तो क्षमा करे व कमेंट मे जरुर बताये।

1 thought on “दोस्त पर निबंध । मेरे प्यारे मित्र पर निबंध । essay on friend in hindi । my best friend essay”

  1. Pingback: पेड़ रक्षा ही, जीवन रक्षा है [निबंध PDF] वन है तो जन है Tree Essay in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *