ॐ जय जगदीश हरे, आरती (विष्णू जी की आरती) | Om Jai Jagdish Hare Lyrics in Hindi

Om Jai Jagdish Hare: ॐ जय जगदीश हरे आरती भगवान विष्णु की आरती है। यह आरती जगत के पालनहार भगवान विष्णु के स्तुति के लिये गाया जाता है। मान्यता है की जो भी भक्त पूरे सच्चे श्रध्दा से भगवान विष्णु की स्तुति करता है, उसकी मनोकांक्षाये पूर्ण होती है। वह सुखद व समृध्द जीवन का निर्वहन करता है। जय श्री कृष्णा भक्तों – आज इस लेख मे हम ॐ जय जगदीश हरे (Om Jai Jagdish Hare), जो की भगवान विष्णु की आरती है की स्तुति करेंगे |

Om Jai Jagdish Hare
om jai jagdish hare aarti

‘ॐ जय जगदीश हरे’ आरती – Om Jai Jagdish Hare Aarti

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे ।
भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

जो ध्यावे फल पावे, दुःख बिनसे मन का, स्वामी दुःख बिनसे मन का ।
सुख सम्पति घर आवे – 2, कष्ट मिटे तन का ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

मात पिता तुम मेरे, शरण गहूं किसकी, स्वामी शरण गहूं मैं किसकी ।
तुम बिन और न दूजा – 2, आस करूं मैं जिसकी ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

तुम पूरण परमात्मा, तुम अन्तर्यामी, स्वामी तुम अन्तर्यामी ।
पारब्रह्म परमेश्वर – 2 , तुम सब के स्वामी ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

तुम करुणा के सागर, तुम पालनकर्ता, स्वामी तुम पालनकर्ता ।
मैं मूरख फलकामी, मैं सेवक तुम स्वामी, कृपा करो भर्ता॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

तुम हो एक अगोचर, सबके प्राणपति, स्वामी सबके प्राणपति ।
किस विधि मिलूं दयामय – 2 , तुमको मैं कुमति ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

दीन-बन्धु दुःख-हर्ता, ठाकुर तुम मेरे, स्वामी रक्षक तुम मेरे ।
अपने हाथ उठाओ, अपने शरण लगाओ, द्वार पड़ा तेरे ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

विषय-विकार मिटाओ, पाप हरो देवा, स्वमी पाप हरो देवा ।
श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ- 2, सन्तन की सेवा ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे ।
भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे ॥

॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

बजरंग बाण चालीसा पाठआरती कुंज बिहारी की श्री गिरधर कृष्ण मुरारी की सर्व मंगल मांगल्ये मंत्र का पूर्ण अर्थ

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे, आरती विडीयो – Om Jai Jagdish Hare Aarti Video

Video Credit : T-Series Bhakti Sagar

अनुराधा पौडवाल के मुख से, ॐ जय जगदीश हरे (विष्णु जी की आरती) Anuradha Paudwal om jai jagdish hare vishnu ji ki aarti

अनुराधा पौडवाल (Anuradha Paudwal) जी के बचपन का नाम अलका नादकर्णी है। इनका मुख्य पेशा गायन है। अधिकतर इन्होने भजन, आरती जैसे भक्ति संगीत गाये है। आज हम इस लेख मे हम अनुराधा पौडवाल जी द्वारा गायी गई ॐ जय जगदीश हरे (विष्णु जी की आरती) Anuradha Paudwal om jai jagdish hare vishnu ji ki aarti सुनेंगे।

Leave a Comment

Your email address will not be published.