स्वामी विवेकानन्द जीवन परिचय । Swami Vivekananda Biography

Swami Vivekananda Biography in hindi स्वामी विवेकानंद का जीवनी

स्वामी विवेकानंद जी का जन्म 12 जनवरी 1863 ईसवी में हुआ था यह एक आध्यात्मिक पुरुष है इनका पूरा नाम नरेंद्र नाथ दत है । इनका जन्म कोलकाता के एक कुलीन बंगाली परिवार में हुआ था । स्वामी विवेकानंद जी के गुरु का नाम रामकृष्ण परमहंश थे उन्होंने अपने गुरु की सबसे बडी ये सीख लगी की सारे जीवो में स्वयं परमात्मा का ही अस्तित्व है, इसलिये उन्होने समाज सेवा, लोगो की भलाई, जन के सेवा का मार्ग चुना। स्वामी विवेकानंद जी के बचपन का नाम विदेश्वर था एवं उनके पिता का नाम विश्वनाथ दर्शन था जो कि कोलकाता हाई कोर्ट के एक प्रसिद्ध वकील थे । Swami Vivekananda in Hindi

स्वामी विवेकानंद बचपन से ही आध्यात्मिक और सनातन धर्म को मानने वाले सनातनी थे जिससे उनका बचपन भगवान शिव की पूजा अर्चना करने में ही व्यतीत हुआ स्वामी विवेकानंद जी के पिता और उनकी मां भी धार्मिक थी जिससे स्वामी विवेकानंद को धार्मिक प्रगतिशील और उनकी सोच और अस्तित्व में काफी सहयोग मिला । और अध्यात्म के मार्ग पर चलकर पूरे विश्व को शिक्षा दे सके । शिक्षा का महत्व क्या है

स्वामी विवेकानंद धार्मिक पुस्तकों को पढ़ना काफी पसंद करते थे जिससे , वेद, उपनिषद, भगवत गीता, रामायण, महाभारत और पुराणों के अतिरिक्त अनेक हिंदू शास्त्र को पढना पसंद करते थे स्वामी विवेकानंद जी को भारतीय शास्त्रीय संगीत में भी रुचि थी जिससे उन्होने भारतीय संगीत शास्त्र मे प्रशिक्षण लिया स्वामी विवेकानंद नियमित रूप से शारीरिक व्यायाम व ध्यान केंद्रित जैसे कार्य अपने दिनचर्या मे लाते।- Swami Vivekananda Biography हिंदी मे-

रोचक तथ्यो को पढे

जन्म 12 जनवरी 1863
बचपन का नाम विदेश्वर
पिता का नामविश्वनाथ
पसंदीदा ग्रंथ वेद, उपनिषद,
भागवत गीता,
रामायण, महाभारत,
पुराण, अन्य हिंदू शास्त्र
जन्म स्थानकोलकाता
धर्म हिंदू
गुरु रामकृष्ण परमहंश
राष्ट्रियताभारतीय
मृत्यु4 जुलाई 1902
बेलूर ( पश्चिम बंगाल)
साहित्यिक राज योग (पुस्तक)
स्वामी विवेकानंद का जीवन परिचय -swami Vivekananda ka jivan parichay

स्वामी विवेकानंद जी का जीवन मानव जाति, समाज, धर्म की रक्षा करने मे ही व्यतीत हुआ, स्वामी विवेकानंद जी शिक्षा को बहुत महत्व देते थे, उनका मानना था की शिक्षा का ऐसा पध्दति हो जिससे विद्यार्थी का मानसिक, शारीरिक, दोनो रुपो से विकाश हो सके। विद्यार्थी चरित्रवान, संस्कारी व आत्मनिर्भर बन सके। – मानसिक तनाव से कैसे बचे

स्वामी विवेकानंद के शैक्षिक विचार

शिक्षा ऐसी पद्धति होनी चाहिए जिससे विद्यार्थियों का शारीरिक मानसिक एवं आध्यात्मिक विकास हो सके और शिक्षा ऐसी होनी चाहिये जिससे विद्यार्थियों का चरित्र निर्माण हो सके मन का विकास हो खुश हो सके बुद्धि विकसित हो सके तथा बालक आत्मनिर्भर बन सकें, बालक और बालिकाओं को दोनों को समाज में समान अधिकार मिलना चाहिए।

Swami Vivekananda Motivational Quotes

उठो जागो और तब तक चलो, जब तक मंजिल नही मिल जाती ।

स्वामी विवेकानन्द

धार्मिक शिक्षा पुस्तको द्वारा न देकर आचरण एवं संस्कारों द्वारा देनी चाहिए, शिक्षक एवं छात्र का संबंध अधिक से अधिक निकट का होना चाहिए सर्व साधारण भाषा में कहा जाए तो शिक्षा का प्रचार प्रसार होना चाहिए, देश की आर्थिक प्रगति के लिए तकनीकी शिक्षा की व्यवस्था होनी चाहिए मानवीय एवं राष्ट्रीय शिक्षा परिवार से शुरू करनी चाहिए।

नारी का सम्मान

Swami Vivekananda story in hindi- स्वामी विवेकानंद जी की कहानी

विवेकानंद अमेरिका में भाषण दे रहे थे उनके भाषण से एक अमेरिकी महिला बहुत प्रभावित हुई जिससे भाषण खत्म होने के बाद वह महिला स्वामी विवेकानंद जी से मिलती है और बोलती है मुझे आपसे शादी करना है ताकि मैं आपके जैसा गौरवशाली वह प्रभावशाली पुत्र प्राप्त कर सकू।

स्वामी विवेकानंद जी ने कहा, क्या आपको नहीं पता मैं एक सन्यासी हूं और सन्यासी लोग शादी नहीं करते, हा अगर आप मुझे अपना पुत्र मान ले तो आपकी इच्छा भी पूर्ण हो जाएगी और मेरा सन्यास भी नहीं टूटेगा ऐसी बातें सुनते ही उस महिला ने स्वामी विवेकानंद जी की चरणों में गिर गई और उनसे क्षमा मांगी, और कहाँआप ईश्वर के समान है ।

इसेसे हमें यह सीख मिलता है कि हर पुरुष को हर परिस्थिति में नारी का सम्मान करना चाहिए ।

स्वामी विवेकानंद के विचार

स्वामी विवेकानंद जी सनातन धर्म को मानने वाले व एक आध्यात्मिक पुरुष थे आज हम इस लेख मे उनके द्वारा कहे गये थाट्स पढेंगे -Swami Vivekananda Quotes in hindi या स्वामी विवेकानंद जी के सुविचार हिंदी मे ।

सच्चा पुरुष वही है, जो नारी की हर परिस्थिति मे सम्मान करे।

स्वामी विवेकानंद

बालक व बालिकाओ का समान अधिकार होना चाहिये ।

स्वामी विवेकानंद
swami Vivekananda Thoughts in Hindi

शिक्षा का अर्थ मानसिक व शारीरिक दोनो प्रकार के विकास से है ।

स्वामी विवेकानंद

500+ से ज्यादा लोगो ने पढा

महात्मा गांधी का जीवन परिचय
महादेवी वर्मा का जीवन परिचय
गुरु नानन का जीवन परिचय
आध्यात्मिक ग्रूप से जुडे
इसे भी पढे

निष्कर्ष-
इस लेख मे हमने स्वामी विवेकानंद की जीवनी पढा, स्वामी विवेकानंद जी सनातन धर्म को मानते थे, उन्होने ने हिंन्दू धर्म से प्रभावित होके अध्यात्म गुरु बन गये, उन्होने सभी हिंदू शास्त्र का गहन अध्ययन किया। और भारत की तरफ से अमेरिका मे सनातन धर्म पर भाषण देकर, भारत को सर्वश्रेष्ठ बना दिया,

लोगो ने पूछा – People Also Ask
on Swami Vivekananda Biography in hindi

Que> स्वामी विवेकानंद जी का जन्म कब हुआ था ?
Ans> 12 जनवरी 1863

Que> स्वामी विवेकानंद जी का जन्म कहाँ हुआ था ?
Ans> कोलकाता मे

Que> स्वामी विवेकानंद जी के बचपन का क्या नाम था ?
Ans> विदेश्वर

Que> स्वामी विवेकानंद के गुरु का क्या नाम था ?
Ans> रामकृष्ण परमहंश

Que> स्वामी विवेकानंद जी का मृत्यु कब हुआ था?
Ans> 4 जुलाई 1902- पश्चिम बंगाल

Que> स्वामी विवेकानंद जी के पिता का क्या नाम था?
Ans> विश्वनाथ