मेरा प्रिय त्योहार (होली-दिवाली-रक्षाबंधन) पर निबंध | My Favourite Festival Essay in Hindi

mera priya tyohar: सभी त्योहार बच्चो का प्रिय त्योहार होता है, चाहे वो दिवाली के पटाखे हो या होली के गुलाल, बच्चे हर त्योहार को बड़े धूम-धाम से मनाते है। साथ ही यह सभी त्योहारो का बेसब्री से तजार करते है, मुख्य रुप से बच्चो को ऐसे त्योहार पसंद आते है, जिसमे वो अधिक खेल सके, जैसे- होली पर गुलाल के संग, दीवाली मे पटाखो के संग, और मकर संक्रांति पर पतंग उड़ाकर इत्यादि।

My Favourite Festival
My Favourite Festival

अगर आप को भी विद्यालय से दिये गये होम वर्क मे मेरा प्रिय त्योहार (mera priya tyohar) या मेरा पसंदीदा त्योहार पर निबंध लिखने को मिला है तो आप इस लेख मे दिवाली, रक्षाबंधन, होली व जन्माष्टमी मे से किसी एक पर अपना निबंध लिख सकते है। चुकि इस निबंध लेखन मे साधारण शब्दो व छोटे तथ्यों का संकलन किया गया है इसलिये ये निबंध कक्षा 2,3,4,5,6,7,8 तक के विद्यार्थीयो के लिये अधिक उपयोगी है।

मेरा प्रिय त्योहार दिवाली (Mera Priya Tyohar Diwali)

My Favourite Festival Diwali Essay in Hindi: मेरा प्रिय त्योहार दिवाली है, इस त्योहार की शुरुआत भगवान गणेश और माता लक्ष्मी के पूजन से होता है, यह त्योहार हर वर्ष अमवस्या के दिन मनाया जाता है. इस दिन सभी परिवार के लोग मिलकर गणेश जी, माता लक्ष्मी और कुबेर देवता की पूजा अर्चना करते है। दिवाली हमारा प्रिय त्योहार इसलिये है, क्युकी इस दिन हम ढेर सारे पटाखे बजाकर दिवाली मनाते है। और हमारे घरो मे कई प्रकार के पकवान भी बनाये जाते है।

दिवाली कैसे मनाते है: दिवाली त्योहार की शुरुआत कई दिनो पहले से ही दिखने लगता है, यह हिंदुयो का प्रमुख त्योहार है, दिवाली आने के पहले ही लोग अपने घरो को साफ करके, नये रंगो व झालर मोतियो से सजा देते है। दिवाली त्योहार को लोग दीपो का त्योहार भी कहते है, क्युकि दिवाली के दिन लोग भारी मात्रा मे दीपक जलाते है, और अपने घरो को दीपो के रोशनी से उजागर कर देते है।

दिपावली का इतिहास: दिवाली का त्योहार भगवान श्री राम पर आधारित है, मान्यता है की इसी दिन भगवान राम, भाई लक्ष्मण और पत्नि सीता के साथ, 14 वर्षो के वनवास के पश्चात अयोध्या वापिस आये थे, जिसके खुशी मे अयोध्या वाशियो ने सारे अयोध्या नगरी को दिपको से सजा दिया। इसलिये इसे दिपो का त्योहार भी कहाँ जाता है।

दिवाली से सम्बंधित लेख

मेरा प्रिय त्योहार होली (My favourite festival holi)

My Favourite Festival Holi Essay in Hindi: मेरा प्रिय त्योहार होली है, क्योकी ये त्योहार भाईचारे का प्रतीक है, इस दिन सभी लोग एक दुसरे को गुलाल लगाते है, और अपने से बडो का पैर छूते है, इस दिन सभी के घरो मे कई प्रकार के पकवान बनाये जाते है, होली का त्योहार अपने प्रमुख पकवानो से भी प्रसिध्द है, जैसे- गोझिया, दमआलू, पापड़ इत्यादि

होली की शुरुआत: होली की शुरुआत गाँवों मे कई दिनो पहले से ही दिखने लगता है। यह त्योहार फाल्गुन महीने मे मनाया जाता है, होली का त्योहार हिंदुयो के प्रमुख त्योहारो मे से एक है। होली त्योहार के एक दिन पहले होलिका दहन मनाया जाता है, जहाँ किसी खाली स्थान या चौराओ पर लकड़ी इकठ्ठा करके जलाया जाता है, जिसे होलिका दहन कहाँ जाता है,

होली कैसे मनाये: होली को रंगो का त्योहार कहाँ जाता है, इस दिन भगवान शिव की पूजा की जाती है, और कई प्रकार के भोग लगाये जाते है, भगवान शिव का मुख्य भोग भाग को माना गया है, इसलिए इस दिन भगवान शिव को अन्य भोगो के साथ-साथ भाग को चढ़ाना शुभ माना जाता है. इस दिन सभी एक दुसरे को रंग व गुलाल लगाते है, होली के दिन, घरो मे कई प्रकार के पकवान बनाये जाते है। जैसे- गोझिया, पापड, आलूदम, लाइ-गट्टा इत्यादि।

होली से सम्बंधित लेख

मेरा प्रिय त्योहार रक्षाबंधन (Mera Priya Tyohar Raksha Bandhan)

My Favourite Festival Raksha Bandhan: मेरा प्रिय त्योहार रक्षाबंधन है, इसे भाई-बहन के प्यार का त्योहार भी कहा जाता है, मुख्यत: ये त्योहार भाई-बहन का ही होता है, इस दिन सभी बहने अपने भाई के कलाई मे रक्षाबंधन बाधती है व मिठाई खिलाती है, और रक्षाबंधन बाधने पर भाई अपने बहनो को गिफ्ट देते है।

रक्षाबंधन कैसे मनाये: हिंदू धर्म मे किसी कार्य को करने से पूर्व शुभ मुहुर्त देखा जाता है, इसलिये ज्ञानी पुरुषो के द्वारा बताये गये मुहुर्त (समय) के अनुसार ही बहन अपने भाई को रक्षाबंधन बाधती है। इस दिन सभी बहने अपने भाइयों को राखी बांधती है और उन्हे पकवान खिलाती है तथा भाई बहन से आजीवन रक्षा करने का संकल्प लेता है और कुछ उपहार भी देता है।

मेरा प्रिय त्योहार मकर संक्रांती (Mera Priya Tyohar Makar Sankranti)

My Favourite Festival Makar Sankranti: मेरा प्रिय त्योहार मकर संक्रांति है, जिसे खिचडी के नाम से भी जाना जाता है। यह त्योहार हर वर्ष 14 जनवरी को मनाया जाता है, इस त्योहार की शुरुआत गंगा स्नान,दान, व शिव जी की पूजा से होती है, इस दिन सभी लोग गंगा मे स्नान करके, भगवान शिव की पूजा करते है और गरीबों को दान देते है।

मकर संक्रांति के पकवान: मकर संक्रांति के दिन घरो मे कई तरह के पकवान बनाये जाते है। जैसे- लड्डू, गट्टा, आटे का लड्डू, तिल का लेड्डु, मुंगफली की पट्टी, लेणुआ (सेव व गुण का मिश्रण), इत्यादि

मकर संक्रांति का इतिहास: मकर संक्रांति का इतिहास हजारो वर्ष पुराना है, मान्यता है की सूर्य भगवान इस दिन धनु राशि को छोडकर, मकर राशि मे प्रवेश करते है, जो की हर वर्ष 14 या 15 जनवरी को होता है, इसी उपलक्ष्य मे हर वर्ष 14 या 15 जनवरी को मकर संक्रांति का त्योहार मनाया जाता है।

मेरा प्रिय त्योहार जन्माष्टमी – (Mera Priya Tyohar Janmashtami)

मेरा प्रिय त्योहार जन्माष्टमी का त्योहार है क्युकि जन्माष्टमी का त्योहार हिन्दू धर्म में भगवान कृष्ण के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। यह त्योहार भक्तों के बीच बड़े उत्साह और ध्यान के साथ मनाया जाता है।

इस दिन गांव, संस्थान व मंदिरों में विशेष पूजा और आराधना की जाती है, जो भगवान कृष्ण को समर्पित होता है। इस दिन भगवान कृष्ण के बाल रूप की प्रतिमा को झूला पर बैठाया जाता है और भक्तगण द्वारा पूरे-विधान से भगवान कृष्ण की पूजा की जाती है, इस दिन विशेष रुप से रात्रि 12 बजे से ही महिलाओ व पुरुषों द्वारा उपवास रखा जाता है और पूरे विधि-विधान से पूजा के उपरांत ही की अन्न ग्रहण किया जाता है।

साथ ही जन्माष्टमी के दिन विद्यालयो, गांवो, धार्मिक स्थानो मे मटकी फोड प्रतियोगिता व सत्संग आयोजित की जाती हैं, जिनमें भगवान कृष्ण की कथाएँ सुनाई जाती हैं अर्थात यह त्योहार खुशियों और उत्साह का त्योहार होता है।


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top