नागपंचमी की सम्पूर्ण जानकारी {हिंदू धर्म} । Nag Panchami 2021

नागपंचमी (Nag Panchami 2021)

हिंदू धर्म शिव को अपना गुरू मानती है शिव का पावन महीना सावन होता है सावन माह हिंदू धर्म के लोगो के लिये पवित्र महीना होता है हर साल सावन माह के शुक्ल पक्ष के पंचमी को नाग पंचमी मनाया जाता है इस साल नाग पंचमी 13 अगस्त 2021 को है इस दिन लोग पुरी विधि- विधान से शिव की पूजा करते है और सर्प को दूध पिलाते है about nag Panchami विस्तार से –

नागपंचमी की सम्पूर्ण जानकारी
नागपंचमी (Nag Panchami 2021)

Nag Panchami kab hai (नागपंचमी कब है)


नाग पंचमी 13 अगस्त 2021 को है । इस दिन लोग शिव की पूजा करते है अन्य त्योहार की तरह नाग पंचमी भी बडे धूम- धाम से मनाया जाता है , इस दिन लोग अपने घरो मे पुडी सब्जी , सेवई , हलवा , खीर जैसे अन्य पकवान बनाते है और शिव को चढाते है ,

Nag Panchami kyu manaya jata hai (क्यू मनाया जाता है)


हमारा देश एक कृषी प्रधान देश है यहाँ के ज्यादातर लोग गाव मे रहते है और उनका मुख्य स्त्रोत किसानी है जहाँ से वो अपना व अपने परिवार का लालन- पालन कर पाते है ऐसे मे लोगो का मान्यता है की सर्प उनके फसलो की रक्षा करते है , सर्प के रहने से उनके खेतो मे कीडे -मकोडे, चूहे जैसे- छोटे जानवर से सर्प हमारे फसलो की रक्षा करते है,

अगर आप ये सोचते है की सर्प हानिकारिक होते है तो , आप को बता दु जब तक आप उन्हे परेसान नही करते तब तक वो आप को कोई भी नुकसान नही पहुचाते है जब मानव की प्रकित ही ऐसी है की अगर उसे अनावश्यक कोई छेडता है या मारने के लिये कुछ करता है , तो अपनी प्राण बचाता है प्राण बचाना हर जीव का अधिकार है उसके लिये वो किसी भी हद तक जा सकता है।

नागपंचमी पूजा करने की विधि

नागपंचमी पूजा करने की विधि
नागपंचमी पूजा करने की विधि
सुबह स्नान करले व पूजा की तैयारी जैसे- पुष्प , पेलपत्र ,ऐकत्रित कर ले
पूजा करने के लिये हलवा, खीर , पुडी जैसे मीठे पकवान बना ले
पूजा स्थल को साफ कर ले , अगर मिट्टी वाली जहग है तो गाय के गोबर से लीप ले ( देवताओ की आकृति बना ले )
इस दिन सर्प व शिवजी दोनो देवताओ की पूजा की जाती है
पुष्प , अक्षत , बेलपत्र, दूध , रोली , चावल ,मीठे पकवानो इत्यादि से भोग लगाये
आरती व कथा करे
आंख बंद करके व हाथ जोड कर अपनी इच्छा प्रकट करे व ईश्वर को धन्यवाद दे
नागपंचमी पूजा सम्पन्न हुआ
नागपंचमी पूजा करने की विधि

Nag Panchami story in Hindi (नागपंचमी की कहाँनी)

एक समय की बात है एक सेठ जी के 7 बेटे थे और सातो बेटो की शादी हो गई थी, पहले के घर मीट्टी के बना करते थे इसलिये एक दिन सातो बहुयो ने घर की पुताई करने के लिये चमकीली मीट्टी (पोतनी) लाने चल पडी। जब वो लोग मिट्टी खोद रही थी तभी बडी बहु को एक सांप दिख गया और वो उसे मारने लगी । लेकिन छोटी बहु ने मारने नही दिया, उसे यह कर रोक दिया की बेजुबान व निअपराध को मारने से पाप लगता है

यह सुनकर बडी बहु ने उसे छोड दिया तब सर्प एक किनारे जाके बैठ गया , छोटी बहु घर जाते वक्त सर्प से कहाँ आप यही बैठे रहो , मै घर से आती हु लेकिन जैसे वह घर पहुची तो काम मे फस गई और भूल गई । जब उसे यह बात अगले दिन याद आया तो वह दौड कर सर्प के पास गई और देखी सर्प वही बैठा था , उसने सर्प के आगे दुध रखा और बोला सर्प भैया हमे माफ कर दो , मै अपने काम की वजह से भूल गई , सर्प ने कहाँ तुने मुझे अपना भाई बनाया है अब से तुझे कोई भी जरुरत पडे तो हमे याद कर लेना ।

एक दिन सर्प इंशान का रुप लेके सेठ जी के घर गया और बोला , मुझे अपने बहना से मिलना है तो , उसके घर वालो ने कहाँ इसके पहले आप को कभी नही देखा था , तब सर्प ने कहाँ मै दुर का रिश्तेदार हु नौकरी करने बाहर गया था , सर्प ने अपनी बातो से घर वालो को मना लिया और अपने बहना को लेके घर चल दिया । सर्प ने राश्ते मे बताया मै वही सर्प हू तुम डरना मत और वो अपने घर ले गया और अपने बहन समान सेठ जी के छोटी बहू को ढेर सारे हीरे – मोती जवाहरात दिया और उसे उसके पहुचा दिया ।

जब वह घर आई तब धन को देखकर बड़ी बहू ने उसके पति को बताया कि छोटी के पास कहीं से बहुत धन आया है। यह सुनकर उसके पति ने अपनी पत्नी को बुलाकर कहा- ठीक-ठीक बताओ यह धन कौन देता है ? तब छोटी बहू अपने सर्प भैया को बुलाती है ।

तब सांप प्रकट होता है और कहा- जो मेरी बहन के चरित्र पर संदेह प्रकट करेगा मैं उसे ड्स लूँगा। यह सुनकर उसका पति बहुत खुश हुआ और उसने सर्प देवता का बड़ा सत्कार किया। उसी दिन से नागपंचमी का त्योहार मनाया जाने लगा, औरते सर्प को भाई मानकर उसकी पूजा करने लगी ।

nag panchami quotes in hindi (नागपंचमी पर सुविचार )

शिव के भक्ति के साथ व शिव के शाक्ती के साथ , नागपंचमी की सुभकामनाये

शिव के प्यारे है नाग देवता ,करते है पुरी सब की कामना

नागपंचमी की रश्म आप भी निभाइये , सर्प देवता को दूध पिलाइये

इस नागपंचमी पर आप की सारी इच्चाये पूरी हो happy nag Panchami

इसे भी पढे

सनातन धर्म क्या है

आचार्य प्रशांत के विचार

अवरोधक क्षमता कैसे बढाये

मन को शांत कैसे करे

चिंता कैसे दूर करे

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *