क्या भारतीय मीडिया, खबर के नाम पे अश्लील चीजे दिखाती है ? आखिर समाज मे इसकी जरुरत क्या है ?

भारतीय मीडिया: क्या आप का भी दिमाक भारतीय मीडिया के द्वारा परिवर्तित किया जा रहा है। क्या आप भी भारतीय मीडिया के द्वारा अश्लील न्यूज, फोटो, विडीयो देखने पे मजबूर है। हम बात कर रहे अध्यात्मिक देश भारत के फर्जी न्यूज चैनलो की, जो समाज मे अश्लीलता फैलाने के साथ-साथ देश की गरीमा भी गिरा रहे है।

भारतीय मीडिया द्वारा अधिकतर अश्लीलता भरे न्यूज जैसे- 1. मलाईका अरोरा छोटे कपडे पहन कर कुत्ते को टहलाने निकली तस्वीरें हो रही वायरल 2. कपडे उतारकर उर्फी जावेद ने क्यू लपेट लिया धागा 3. जानिए रोहित शर्मा की एक्स गर्लफ्रेंड के बारे में 4. नूरा फतेही ने एनिमल प्रिंट बिगिनी में बढ़ाई गर्मी आदि। आखिर क्यो मीडिया हमें खबर के नाम पे अश्लील चीजे दिखाती है ?

भारतीय मीडिया
भारतीय मीडिया की अश्लीलता पूर्ण खबर

मीडिया हमें खबर के नाम पे अश्लील चीजे क्यु दिखाती है ?

कही आपको ऐसा महसूस तो नही हो रहा की आप अश्लीलता भरे साइट पर पहुंच गये। ऐसा नही है ! आप एक आध्यात्मिक साइट पर है, आज हम यहाँ मीडिया व लोगो के द्वारा सोसल मीडिया पर अश्लीलता फैलाने पर चर्चा करेंगे। क्युकी आजकल मीडिया की हेडलाइन कुछ ऐसी ही है। आजकल सोसल न्यूज मीडिया पर अधिकतर अश्लीलता ही दिखेगी। दुर्भाग्य से सोसल मीडिया पर ऐसी हजारो खबरे मिल जायेंगी।

मगर यहाँ पे सब से बड़ा सवाल यह उठता है कि न्यूज़ चैनल ऐसी खबर क्यू दिखाते है जो कि अश्लील वेबसाइट कि तरह लगता है। इसका जवाब आप के फोन में ही है शायद आप का फोन ही है । इंटरनेट और सोसल मीडिया के जमाने से पहले अखबार और टी.वी चैनल विज्ञापन से पैसे कमाती थी  मगर जब से इंटरनेट आया है तब से इसपर कंट्रोल कुछ बडी कम्पनियो का जैसे मेटा और गूगल का हो गया है।

दिमाग को शांत करने का उपाय जाने

ये लोग दुनिया के अधिकांश विज्ञापनो पर कंट्रोल करते है और किसे कितना पैस देना है यही फैसला लेते है । जिसकी वजह से मीडिया चैनलो के पास सिर्फ 2 ही रास्ते सामने आते है पहला यह कि ये आप से ही पैसे ले मतलब जो इनका चैनल देखते है उससे  पैसे ले उनसे पैसो की माँग करें । मगर ये मुमकिन नहीं है क्यु कि कोई भी न्यूज़ के लिये पैसे नहीं देना चाहता और दुसरा तरीका है अश्लील फोटो के जरिये लोगों क्या ध्यान खींचना और पैसे कमाना आइये हम समझने की कोसिस करते है कि ये ऐसी हरकत क्यु करते है ।

क्या भारतीय मीडिया, खबर के नाम पे अश्लील चीजे दिखाती है ? आखिर समाज मे इसकी जरुरत क्या है ?
भारतीय मीडिया

भारतीय मीडिया के द्वारा अश्लीलता भरे विज्ञापन क्यू

इंटरनेट पर गूगल सबसे ज्यादा प्रयोग होने वाला सर्च इंजनो मे से एक है। जब हम किसी साइट या एप्प पर जाते है तो वहाँ नानाप्रकार के प्रचार (एड्स) आते रहते है। हालाकि यह एड्स अन्य कम्पनियों द्वारा भी चलाये जाते है, लेकिन मुख्य बात यह है की उस एड्स के जरिये सभी वेबसाइट पैसे कमाती है। आपने इसी आर्टिकल के बीच मे ही एड्स चलता दिखा होगा।

एड्स की गणना के अनुसार, किसी व्यक्ति को एड्स पर क्लिक करने पर कितना पैसा मिलेगा इसे गूगल या अन्य कम्पनीया ही तय करती है। जिसका मतलब यह हुवा की वेब साइट को पैसे तभी मिलेंगे जब देखने वाला ऐड (प्रचार) को देखेगा या उस पर क्लिक करेगा। गूगल व अन्य कम्पनीयो के नियमो के अनुसार अलग-अलग एड्स के अनुसार ही पैसे मिलते है। जैसे ऐड किस का है , कौन सी कम्पनी का है और किस देश, किस जगह पर देखा जा रहा है आदि।

पैसा कमाने के आसान तरीके

कभी- कभी इन एड्स पर क्लिक की कीमत कुछ पैसो से लेके 1200 रुपये तक होता है । ये सब देख कर आप को लग रहा होगा कि ये तो बहुत ही अच्छी बात है आप को कुछ करने कि जरूरत ही नहीं है गूगल आप के लिये खुद काम कर रही है मगर ऐसा होता नहीं है , क्युकी इंटरनेट पर हजारों लाखो वेबसाइट है जो एक दूसरे से आगे निकलना चाहती है। और इसी के वजह से न्यूज़ चैनल ये सभी चीज़े भी दिखाती है । और ये सब आप के ध्यान खींचने के लिये कर रही है और उनका जो हेडलाइन है वो बहुत ही आकर्षक होना चाहिये जिससे की लोगों का ध्यान खीचा जा सके ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.