नक्षत्रो के नाम और प्रकार जाने- नक्षत्रो से भविष्य जाने

नक्षत्रो के नाम , पहचान व आकृतिक को जाने,

चंद्रमा के भ्रमण मार्ग को 27 भागो में बाटा गया है| जिन्हें हम चंद्रमा का कक्ष या पथ भी कहते है और इन्ही पथो के प्रत्येक भाग को नक्षत्र कहते है। 27 नक्षत्रों के नाम और पहचान नीचे तालिका मे दिया गया है।

नक्षत्र कितने होते हैं

नक्षत्र 27 प्रकार के होते है, नक्षत्र के नाम निम्नलिखित है। Nakshatra in Hindi

नक्षत्रपहचान
अश्विनीघोडा
भरणीत्रिकोण
कृत्तिकाअग्रिशिखा
रोहिणीगाडी
मृगशिराहरिणमस्तक वा विडालपद
आर्दाउज्वल
पुनर्वसुधनुष
पुष्यमाणिक्य वर्ण
अश्लेषाकुत्ते की पूछ
मघाहल
पूर्वाफाल्गुनीखट्वाकार उत्तर दक्षिण
उत्तराफाल्गुनीशय्याकार उत्तर दक्षिण
हस्तहाथ का पंजा
चित्रामुक्तावत् उज्वल
स्वातीकुकु वर्ण
विशाखातोरण या माला
अनुराधासूप या जलधारा
ज्येष्ठासर्प या कुंडली
मुलसंख या सिन्ह की पूछ
पुर्वाषाढसूप या हाथी का दात
उत्तराषाढसूप
श्रवणबाण या त्रिशुल
धनिष्ठ प्रवेशमर्दल बाजा
शतभिषामंडलाकार
पूर्वभाद्रपदभारवत् या घंटाकार
उत्तरभाद्रपददो मस्तक
रेवतीमछली या मृदंग
नक्षत्रो के नाम

मूल नक्षत्र – Mool Nakshatra

किसी मनुष्य के भविष्य को जानने हेतु आध्यात्मिक तरीको का प्रयोग किया जाता है, जिसे हम ग्रह नक्षत्र कहते है, अर्थात नक्षत्र की सहायता ये ज्योतिषि ये जान पाते है की मनुष्य किस स्वभाव का है, दरअसल ये नक्षत्रो के व्योहारो पर सम्भव हो पाता है,

नक्षत्रो के नाम
नक्षत्रो के नाम

नक्षत्रो का अपना-अपना स्वभाव होता है, कुछ नक्षत्र कुछ नक्षत्र कोमल तो कुछ नक्षत्र कठोर और उग्र होते है, इन्ही उग्र नक्षत्रो को मूल नक्षत्र कहते है।

जब किसी बच्चे का जन्म होता है तो ज्योतिषि बच्चे के नक्षत्र को देखकर उसके भविष्य का अंदाजा लगाता है, यह भविष्य नक्षत्र के व्योहार के जैसा होता है, अगर बच्चे का जन्म किसी अच्छे नक्षत्र मे हुआ है तो बच्चे का भविष्य अच्छा होगा, अगर नक्षत्र मे दोष है तो बच्चे के जीवन मे बहुत कठिनाईपूर्ण व सन्हर्षशील होगा।

मूल नक्षत्र के प्रकार

मूल नक्षत्र कूल 6 प्रकार के होते है, 1. अश्विनी 2. आश्लेषा 3. मघा 4. ज्येष्ठा 5. मूल 6. रेवती, ॥ इन 6 नक्षत्रो मे अश्विनी, आश्लेषा और ज्येष्ठा मूल नक्षत्र है जबकी मघा, मूल, और रेवती सहायक मूल नक्षत्र है, लेकिन इनकी गणना सभी के साथ की जाती है, इसलिये कूल 6 मूल नक्षत्र होते है।

1. आश्विनी2. मघा3. मूल
4. ज्येष्ठा5. आश्लेषा6. रेवती
मूल नक्षत्र

नक्षत्र के नाम list

इस लेख मे हम नक्षत्रो के नाम व उनके स्वामी ग्रहो के नाम के बारे मे जानेंगे । Read-हिंदी कैलेंडर 2022

नक्षत्र का नाम स्वामी ग्रह का नाम
अश्विनीकेतु
भरणीशुक्र
कृत्तिकारवि
रोहिणीचंद्र
मृगशिरामंगल
आद्राराहू
पुनर्वसुवृहस्पति
पुष्पशनि
अश्लेशाबुध
मघाकेतु
पूर्वाफाल्गुनीशुक्र
उत्तराफाल्गुनीरवि
हस्तचंद्र
चित्रामंगल
स्वातीराहु
विशाखावृहस्पति
अनुराधाशनि
ज्येष्ठबुध
मूलकेतु
पूर्वाषाढशुक्र
उत्तराषाढारवि
श्रवणचंद्र
धनिष्ठामंगल
शतभिषाराहु
पूर्वभाद्रपदव्रहस्पति
उत्तरभाद्रपदशनि
रेवतीबुध
नक्षत्र के नाम list
credit :- Learn Astrology With Kumud Ranjan Singh YouTube Channel (नक्षत्रो के नाम)

इन्हे भी पढे

भारतीय अर्थव्यवस्था क्या है

चिपको आंदोलन: एक पर्यावरण सुरक्षा आंदोलन है

आध्यात्मिक विचार

दहेज प्रथा पर निबंध 

इस लेख मे हमने नक्षत्रो के नाम व प्रकार को जाना है और हमने ये भी जाना की मूल नक्षत्र के क्या कार्य है और इससे ज्योतिषि भविष्य कैसे देखते है, अगर शब्दो मे कही त्रुटि हो तो क्षमा करे और यह लेख आप को कैसा लगा कमेंट मे जरुर बताये – हमारे साथ जुडे- join Now

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *